प्रदेश के ज्यादातर हिस्सों में बरसात 10 जिलों में 48 घंटे के लिए रेड अलर्ट, भारी बारिश के साथ बिजली गिर सकती है

0
75

 

भास्कर येवले
जिला प्रतिनिधी

 

तेज बारिश के बीच जरुरी कामों के घरों से बाहर आए लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा।
रायपुर, महासमुंद, दंतेवाड़ा, कोरबा, भिलाई में रात से ही रुक-रुक कर बारिश हो रही है
कोरिया में भी लगातार बारिश से नदियाें का जलस्तर बढ़ गया है, प्रशासन अलर्ट राजधानी रायपुर में बीती रात से हल्की बारिश जारी है। बाजारों में गुरुवार की सुबह बारिश की वजह से भीड़ कम नजर आई। आस-पास के जिले, जैसे महासमुंद, राजनांदगांव, दुर्ग भिलाई में भी आलम यही है। रिहायशी इलाके बारिश से प्रभावित हैं। नदियों का जलस्तर बढ़ा है। रायपुर में खारुन नदी में पानी बढ़ने की वजह पुलिस नदी के किनारे लोगों को जाने से रोक रही है। मौसम विभाग ने स्थिति को देखते हुए रेड अलर्ट जारी किया है। अलर्ट के मुताबिक संबंधित इलाकों में बिजली गिरने और अति भारी बारिश होने की संभावना है।
इन इलाकों में अलर्ट
रायपुर में गुरुवार के दिन भी बारिश जारी है, सेज बहार और बोरियाखुद के इलाके में कुछ जगहों पर सड़कों पर पानी भी भरा है।
24 घंटे के लिए रेड अलर्ट सरगुजा, जशपुर, बलरामपुर, रायगढ़, कोरबा, बलौदाबाजार महासमुंद, और जांजगीर जिले में लागू किया गया है। 48 घंटे के लिए रेड अलर्ट दुर्ग, बालोद, राजनांदगांव, जिले में है। इन जगहों पर मौसम विभाग के अलर्ट के बाद स्थानीय प्रशासन तैयारियों में जुटा है। यहां बिजली गिरने और अत्यधिक बारिश होने की स्थिति बन सकती है। ऑरेंज अलर्ट एरिया के नाम भी जारी किए गए हैं। कोरिया, सूरजपुर, बिलासपुर, मुंगेली, रायपुर, दुर्ग, बालोद, बेमेतरा, कबीरधाम,राजनांदगांव बस्तर और गरियाबंद जिले के शहरी इलाके ऑरेंज अलर्ट पर हैं। 48 घंटे के लिए ऑरेंज अलर्ट मुंगेली, कोरबा, जांजगीर, बिलासपुर, बलौदा बाजार, गरियाबंद, धमतरी, रायपुर महासमुंद, कबीरधाम जिले के कुछ स्थानों के लिए जारी किया गया है।
बेमेतरा के गांव का संपर्क टूटा
बेमेतरा की इस तस्वीर में गांव वालों की परेशानी साफ जाहिर है।
बेमेतरा जिले में 2 दिनों से बारिश हो रही है। शिवनाथ नदी का जलस्तर धीरे-धीरे बढ़ने लगा है। सकरी नदी, फ़ोक नदी, एवं हाफ नदी में बाढ़ की स्थिति एक बार फिर शुरू हो गई है। कवर्धा जिले में हुई अधिक बारिश का असर यहां की नदियों पर दिख रहा है। गांव के लोग अब बड़े पुल की मांग कर रहे हैं। जल स्तर बढ़ने की वजह से एक गांव को दूसरे से जोड़ने वाली सड़क डूब चुकी है । सोयाबीन की फसल में सफेद मक्खियां नुकसान पहुंचा रही हैं। कृषि विभाग से किसानों को अब तक कोई मदद नहीं मिली है। हेमाबन्द भवरदा,सुरकी, सेंदरी, मोहतरा, सेमरिया करचुवा,केवाछि सिंगपुर झाल कारेसरा, भैसबोड दाढ़ी नाम के गांव में फसलें प्रभावित हैं।